भत्ते समाप्त होने से खफा कर्मचारियों पर उत्तर प्रदेश सरकार सख्त। निर्देश जारी। शासनादेश जारी। देखें।

भत्ते समाप्त होने से खफा कर्मचारियों पर उत्तर प्रदेश सरकार सख्त हो गयी है। कल दिनाँक 23 मई 2020 को उत्तर प्रदेश शासन के अपर मुख्य सचिव मुकुल सिंघल द्वारा इस संबंध में कड़े निर्देश जारी किये गए जो इस प्रकार हैं। आदेश में कहा गया है कि धरना, साकेतिक प्रर्दशन, प्रदर्शन एवं हडताल में भाग लेने के कारण यदि संबंधित कार्मिक के द्वारा कार्य नहीं किया जाता है तो ऐसे कार्मिकों को “कार्य नहीं तो वेतन नहीं” के सिद्धांत के आधार पर संबंधित अवधि का वेतन भुगतान न किया जाए। साथ ही धरना , सांकेतिक प्रर्दशन , प्रदर्शन एवं हडताल में शामिल होने के उददेश्य से अवकाश मांगने वाले कार्मिकों का अवकाश स्वीकृत न किया जाए।कार्यालय आने वाले कार्मिकों को संरक्षण प्रदान किया जाए तथा व्यवधान डालने वाले कार्मिकों के विरूद्ध उपरोक्तानुसार कार्यवाही सुनिश्चित की जाए। कार्य बहिष्कार अथवा हडताल की स्थिति में अपने विभाग से संबंधित अत्यावश्यक सुविधायें बनाये रखे जाने की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। किसी अधिकारी को हडताल की अवधि में अवकाश स्वीकृत न किया जाए।