भत्ते खत्म के मुद्दे पर कर्मचारी व शिक्षक कल से काली पट्टी बांधकर करेंगे काम व 27 से प्रदर्शन। शीघ्र निर्णय न होने पर कोर्ट का विकल्प।

coutesy:jagran.com

लखनऊ। उत्तर प्रदेश राज्य कर्मचारी महासंघ ने डीए फ्रीज किए जाने व नगर प्रतिकर भत्ते सहित छह भत्तों को समाप्त किए जाने पर रोक लगाने के लिये प्रतीकात्मक आन्दोलन का कार्यक्रम तय किया है। अध्यक्ष अजय सिंह, महामंत्री राजेश सिंह व मिनिस्टीरियल फेडरेशन के महामंत्री क्रतार्थ सिंह ने बताया कि प्रदेश के समस्त पदाधिकारियों व जनपद शाखाओं के पदाधिकारियों ने तय किया है कि 27 मई को कर्मचारी अपने कार्यस्थल पर काली पट्टी बांधकर कार्य करेंगे। उधर दूसरा संगठन उत्तर प्रदेश राज्य कर्मचारी महासंघ के प्रान्तीय अध्यक्ष कमलेश मिश्रा और प्रवक्ता सीपी श्रीवास्तव ने बताया कि मुख्य पदाधिकारियों से विचार-विमर्श के बाद तय किया गया है कि 18 से 25 मई तक प्रदेश के समस्त कर्मचारी काला फीता बांधकर कार्य करेगें। प्रत्येक जनपद से मुख्यमंत्री को सम्बोधित विरोध पत्र भेजा जाएगा।

नगर प्रतिकर भत्ते पर कोर्ट जा सकते हैं
राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष जे एन तिवारी ने शनिवार को एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए बताया कि प्रदेश के राज्य कर्मचारियों का महंगाई भत्ता रोके जाने और नगर प्रतिकर भत्ता समाप्त किए जाने के प्रकरण पर उन्होंने मुख्य सचिव को पत्र लिखकर विचार करने को कहा है। शीघ्र निर्णय न लेने पर संगठन ने कोर्ट जाने की चेतावनी दी।

उधर भत्तों को खत्म करने से नाराज कर्मचारी-शिक्षक समन्वय समिति ने 18 मई से सांकेतिक आंदोलन का एलान किया है। समिति ने तय किया है कि 18 से 25 मई तक कर्मचारी व शिक्षक काली पट्टी बांधकर काम करेंगे। सरकार ने फैसले पर पुनर्विचार न किया तो आंदोलन को तेज किया जाएगा। समिति ने रेड जोन में माध्यमिक शिक्षक संघ के मूल्यांकन कार्य बहिष्कार के समर्थन की भी घोषणा की है। कर्मचारी-शिक्षक समन्वय समिति के पदाधिकारियों ने शनिवार को ऑनलाइन बैठक में महंगाई भत्ता, महंगाई राहत फ्रीज करने, 18 माह का एरियर जब्त करने, नगर प्रतिकर भत्ता सहित 8 भत्तों के समाप्त करने पर नाराजगी जताई।